ब्रेकिंग न्यूज़: दुनिया के नक्शे से मिट जाएगा अब पाकिस्तान का नाम….

पाकिस्तान के आतंकी ठिकानों खात्मा करने के लिए और IS से बदला लेने के लिए ये मिसाइल तैयार हो रही है। 2020 तक ये पूरी बन जाएगी। आपको बता दें कि रूस के ’सामरिक मिसाइल हथियार’ निगम के महानिदेशक बरीस अबनोसफ़ ने कहा — हमें यह उम्मीद है कि हम सन् 2020 के शुरू में ऐसे मिसाइल बना लेंगे, जो आवाज़ की गति से भी पाँच-छह गुना ज़्यादा गति से उड़ा करेंगे और एक घण्टे में 6125 किलोमीटर की दूरी आसानी से पार कर लेंगे।

ब्रेकिंग न्यूज़: मोदी सरकार का एक ऐसा फैसला जिससे हिल गया पूरा हिन्दुस्तान

आपको बता दें कि। अपनी इस परियोजना को पूरा करने के लिए ’सामरिक मिसाइल हथियार’ निगम  रूस की विज्ञान अकादमी के वैज्ञानिकों और रक्षा उद्योग आयोग के अन्तर्गत सक्रिय ’अग्रिम अनुसन्धान कोष’ के साथ सहयोग कर रहा है।

समाचार समिति ’तास’ के सैन्य-विशेषज्ञ वीक्तर लितोफ़किन ने रूस-भारत संवाद से बातचीत करते हुए कहा कि इन नए रूसी मिसाइलों के कुछ हिस्से तो अभी से बनाकर तैयार कर लिए गए हैं, जो अपने लक्ष्य की तरफ़ उड़ान भरते हुए पराध्वनिक (सुपरसोनिक) गति से उड़ान भर सकते हैं।
उन्होंने कहा — जैसे ’यार्स’ और ’रुबेझ’ नामक सामरिक मिसाइलों के फलक आज भी सुपरसोनिक गति से उड़ते हैं। जब ये मिसाइल अपनी उड़ान के अन्तिम दौर में पहुँचते हैं तो सुपरसोनिक गति से पैतरें बदलने लगते हैं। इस तरह ये मिसाइल दुश्मन की मिसाइल प्रतिरोधी प्रणाली से बच जाते हैं। सामरिक परिचालन मिसाइल ’इस्कान्दर एम’ का फलक भी यह ख़ासियत रखता है। वह भी पराध्वनिक गति से पैंतरे बदलता है। वीक्तर लितोफ़किन के अनुसार, लेकिन अभी तक रूस के पास ऐसे मिसाइल नहीं हैं, जो अपना पूरा रास्ता पराध्वनिक (सुपरसोनिक) गति से पार करते हों।

Latest from breaking news

English News
Go to Top